Monday, May 22, 2017

पांच माह में खो दिए दस बाघ

काँर्बेट टाइगर रिजर्व और उसके आस-पास के वनक्षेत्रों में 2017 के पांच महीनों में प्रतिमाह दो बाघ की दर से हमने 10 बाघ खो दिये हैं। ताजा मामला काँर्बेट टाइगर रिजर्व का ही है। जहां एक बाघिन का शव सोमवार को बरामद किया गया है। बताया जा रहा है कि यह बाघिन उम्र दराज हो गई थी। जिसकी उम्र करीब दस साल रही होगी। यह बाघिन काँर्बेट की कालागढ रेंज की धारा कम्पार्टमेंट 6 से बरामद हुई है।

 इस बाघिन के शव को देखकर लगता है कि यह करीब 10-15 दिन पहले ही स्वर्ग सिधार गई होगी। जबकि काँर्बेट के उपनिदेशक अमित वर्मा कहते हैं कि यह करीब चार से पांच दिन पहले इसकी मौत हुई होगी। यह शव इतनी सडी गली अवस्था में है कि इसका पोस्टमार्टम भी करना सम्भव नही था।

 जिसका बिसरा आईआर‌वीआई बरेली को भेजा गया है। जहां से इसकी मौत के कारणों का पता चल पायेगा। वैसे अब तक भेजे गये बिसरों की क्या रिपोर्ट आई यह कभी भी काँर्बेट प्रशासन ने ओपन नही की हैं। यह बाघिन तो कालागढ के मुख्य सडक से करीब 50 मीटर की दूरी में मृत मिली है। जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि काँर्बेट टाइगर रिजर्व में गश्त के नाम पर किस तरह खानापूर्ति की जा रही है।

Saturday, May 20, 2017

अब कॉर्बेट में भ्रमण के लिए लॉटरी से मिल सकता है आपको परमिट

काँर्बेट नेशनल पार्क में आँनलाइन बुकिंग के नाम पर बडा फर्जावाडा किया जा रहा था। जिससे काँर्बेट प्रशासन चौकन्ना हो गया। जिस पर उसने आँनलाइन कैंसिलेशन के विरुद्ध परमिट जारी करना बंद कर दिया।
आपको बता दें कि कुछ लोगो काँर्बेट पार्क की आँनलाइन बुकिंग का नाजायज फायदा उठाने लगे थे। जिसमें यह आँनलाइन परमिट तो बुक करा देते हैं। लेकिन अंतिम समय में इसे वह कैंसिल करा देते हैं।

जिसके बाद पार्क के रिसेप्शन से कैंसिल परमिट के विरुद्ध नया परमिट जारी हो जा रहा था। पार्क प्रशासन को जैसे ही यह खेल समझ में आया, उन्होने कैन्सिलेशन के विरुद्ध परमिट जारी करना बंद कर दिया।

जिससे पार्क में जाने वाले वाहनों की संख्या में अचानक गिरावट गई। जिसका सीधा असर स्थानीय लोगों के रोजगार पर पडना शुरु हो गया।
काँर्बेट के उपनिदेशक अमित वर्मा ने स्थानीय स्टेक होल्डरों से शनिवार को एक बैठक की। जिसमें तय किया गया, कि रविवार से डे विजिट के कैन्सिल परमिटों के विरुद्ध लाँटरी निकाली जायेगी।
जिससे कैन्सिल परमिट के विरुद्ध परमिट तो दे दिया जाये, लेकिन इसका फायदा फर्जीवाडा कर रहे दलालों को ना हो। पार्क प्रशासन का दावा है कि अगले सीजन तक वह आँनलाइन सोफ्टवेयर को उच्चीकृत कर देंगे। जिससे कि इस तरह के फर्जीवाडे से निजात मिल सके।