Wednesday, December 16, 2015

बाघ की खाल के साथ तीन पकड़े

बरहैनी रेंज के वन क्षेत्राधिकारी रूप नारायण गौतम के नेतृत्व में वन कर्मियों ने  बाघ की लाखो की  खाल के साथ तीन तस्करो को गडप्पू  के प्लाट संख्या ८ से गिरफ्तार किया। यह कार्यवाही मुखबिर की  सूचना पर की  गयी.  गश्त के दौरान टीम को बगैर नंबर की सी टी १०० बाइक पर तीन लोग  आते दिखेप्रयास ।  ने जब बाइक रोकने का  प्रयास किया तो वे भागने की कोशिश  करने लगे. पीछा कर पकड़ने के बाद चेकिंग में इनके कब्जे से बाघ की खाल बरामद हुयी।
     पूछताछ में इन्होने अपना नाम मो. सफी उर्फ़ लालू पुत्र युसूफ, मो. यामीन पुत्र बदरुद्दीन, गुलामनबी पुत्र बदरुद्दीन बताया है। इनके खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत मुक़दमा दर्ज कर हिरासत में लिया  गया है.  रेंजर  आर एन गौतम ने बताया कि मो. सफी पहले भी सागौन की  लकड़ी के साथ पकड़ा गया है. लेकिन इस पर कोई कार्यवाही नही  गयी।  लगभग १ महीने से ये बाघ को मारने के प्रयास में थे. और इस बाघ को जहर देकर मार गया है. 

Friday, May 9, 2014

कॉर्बेट की सुरक्षा मे लगीं सेंध

कॉर्बेट नेशनल पार्क की सुरक्षा मे सेंध  गयी है।  इस बार पार्क की झिरना रेँज से पार्क की ऐस ओ ज़ी  ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।  जबकि दो आरोपी फरार हो गए हैं।  बताया जा रहा है कि पकड़े गए दोनो आऱोपी यहाँ वनराज के शिकार की नीयत से घुसे थे।  महज ५ हजार के लालच में पड़ कर यह लोग इस अपराध को करने चल पड़े। पकड़े गए आरोपी बागडिया बताएं जा रहे हैं। इनके पास से एक खडका और एक जंज़ीर बरामद हुयी है।  इनमे एक आरोपी पिंजौर निवासी कुख्यात शिकारी प्रिया का पुत्र सतवीर है, जबकि  दूसरा आरोपी सोलन निवासी झिले राम है।  सतवीर की निशानदेही पर रामनगर वन प्रभाग के कोसी रेंज की बेला बीट मे तेंदु के पेङ के नीचे दबे ३ खड़के भी बरामद किये हैं। इस पूरे घटनाक्रम में तुमड़िया डेम निवासी गुरुदेव और बुधीं सिंह भांगने मे सफ़ल रहें। पकड़े गए आरोपियों के विरुद्ध वन्यजीव संरकशन अधिनियम १९७२ के तहत कार्यवाही की जा रही है।  साथ ही पूरे मामले मे वन्यजीव अपराध नियन्त्रण ब्यूरो के साथ ही अन्य एजेंसियों से सम्पर्क किया जा रहा है।

खडका= कडका= बाघ पकड़ने के लिये प्रयुक्त होने वाला औजार य हथियार